जाने क्या होता है Lab Grown Diamonds? क्या है इसके फायदे और क्यों सरकार इसके उत्पादन पर ध्यान दे रही है? [Hindi]

 

Lab Grown Diamonds (जिन्हें प्रयोगशाला निर्मित हीरे, मानव निर्मित हीरे, इंजीनियर हीरे और सुसंस्कृत हीरे के रूप में भी जाना जाता है)  advanced technology प्रक्रियाओं का उपयोग करके अत्यधिक नियंत्रित प्रयोगशाला वातावरण में उगाए जाते हैं जो उन परिस्थितियों की नकल करते हैं जिनके तहत हीरे natural रूप से विकसित होते हैं जब वे नीचे पृथ्वी की crust के आवरण में बनते हैं। इन प्रयोगशाला निर्मित हीरों में विशिष्ट हीरे की crystal structure में व्यवस्थित वास्तविक carbon atoms होते हैं। चूंकि वे प्राकृतिक हीरे के समान सामग्री से बने होते हैं, इसलिए वे समान Optical और Chemical Properties प्रदर्शित करते हैं।

 

LAB GROWN DIAMONDS कैसे बनाये जाते हैं?

 

एक natural हीरे की परिशुद्धता (precision) को lab grown हीरे में दोहराने में लगभग 60 वर्षों के प्रयाश लगता है। जबकि एक natural हीरे को धरती के नीचे बनने में अरबों साल लग सकते हैं, लैब में विकसित हीरे को 1-2 महीने के भीतर बेहतरीन गुणवत्ता में तैयार किया जा सकता है!

 

Evolving Technology और Lab Diamonds क्षेत्र में नए प्रवेशकों के साथ, इन हीरों की आपूर्ति और उपयोगिता तेजी से बढ़ने की उम्मीद है। वर्तमान में लैब डायमंड उगाने की केवल 2 विधियाँ हैं:

How LGD is made

 

LAB GROWN DIAMONDS VS NATURAL DIAMONDS

TABLE HEADER 

LAB-GROWN DIAMOND

(प्रयोगशाला में विकसित हीरा) 

NATURAL DIAMOND

(प्राकृतिक हीरा)

Origin Lab में विकसित हीरे पहली दुनिया के देशों से प्राप्त किए जाते हैं क्योंकि इन्हें नियंत्रित प्रयोगशाला वातावरण में बनाया और काटा जाता है। जब तक प्राकृतिक हीरे के आभूषण का एक टुकड़ा आप तक पहुंचता है, तब तक उसके इतने सारे हाथ हो चुके होते हैं कि उसकी उत्पत्ति का पता नहीं लगाया जा सकता। अधिकांश प्रयोगशालाएँ हीरे के certificates में origin को ‘assumed origin’ के रूप में list करेंगी।
Environmental Impact कोई Environmental प्रभाव नहीं, क्योंकि प्रयोगशाला में विकसित हीरे नियंत्रित प्रयोगशाला वातावरण में बनाए जाते हैं। हीरे के mining के परिणामस्वरूप 100 हेक्टेयर मिट्टी खराब हो जाती है, अत्यधिक carbon emissions और greenhouse gas emission होता है जिससे वायु की गुणवत्ता खराब हो जाती है।.
Conflict-Free Lab Grown Diamonds किसी भी समुदाय को नुकसान पहुंचाए बिना बनाए जाते हैं।. Natural Diamonds mining के माध्यम से प्राप्त होते हैं, इसलिए वे विवाद मुक्त नहीं होते हैं।
Price Lab Grown Diamonds इसके प्राकृतिक समकक्षों (natural counterparts) की तुलना में 60% छूट पर प्राप्त किए जा सकते हैं  Natural Diamonds की कीमत पूरे उद्योग में overall demand और supply के अनुसार तय की जाती है। Extensive mining process के कारण ये हीरे महंगे हैं। 
Quality Lab Grown Diamonds बेहतर गुणवत्ता (superior quality) के होते हैं। Type II A के रूप में, वे हीरे का सबसे शुद्ध रूप हैं। 98% Natural diamonds I A type के होते हैं। ये हीरे बहुत आम हैं और इनमें अशुद्धियाँ होती हैं।

 

Lab Grown Diamonds के क्या फायदे हैं?

 

एक हीरा जो प्रयोगशाला में बनाया गया है वह उतना ही वास्तविक है जितना कि mining किया हुआ हीरा। उनके physical और chemical गुण समान हैं और वे समान तापमान और दबाव की स्थिति में उगाए जाते हैं, लेकिन conflicts (संघर्ष) और संदिग्ध नैतिक प्रथाओं (questionable ethical practices) के बिना जो कुछ हीरे की खदानों में आम हैं। वास्तव में, अत्यधिक नियंत्रित वातावरण और पूरी तरह से निगरानी की गई प्रक्रिया के कारण प्रयोगशाला में बनाए गए हीरे अक्सर बेहतर गुणवत्ता वाले होते हैं। प्रयोगशाला में निर्मित हीरे के कुछ सबसे बड़े फायदों में शामिल हैं:

 

  • बेहतर quality और उच्च purity के कारण अधिक सुंदर

 

  • कम दोष (Fewer defects)

 

  • पर्यावरण के अनुकूल (Environmentally friendly)

 

  • अधिक सामर्थ्य (Greater affordability)

 

  • ऐसे रंग जो प्रकृति में बहुत कम पाए जाते हैं, बनाए जा सकते हैं, जिससे अद्वितीय (unique) और प्रतिष्ठित टुकड़े (coveted pieces) अधिक प्राप्य हो सकते हैं

 

  • Trackable origin sources आपको प्रतिष्ठित स्थानों (reputable places) से हीरे प्राप्त करने की अनुमति देते हैं जो workers या communities के साथ खराब व्यवहार में संलग्न नहीं होते हैं

LGD

 

क्या भारत में Lab Grown Diamonds का उपयोग किया जाता है?

 

अभी भी शुरुआती चरण में है, LGD (Lab Grown Diamonds) धीरे-धीरे देश में अपनी पकड़ बना रहा है, जबकि दुनिया के अन्य हिस्सों में LGD का commercial marketing लगभग 10 साल पहले शुरू हुआ था।

 

भारत में, कुल हीरा कारोबार में प्रयोगशाला में विकसित हीरों की हिस्सेदारी वर्तमान में केवल 2-3 % है। भारत में, LGD का उपयोग ज्यादातर jewelleries and exports के लिए किया जाता है। लगभग 80 % cut and polished किए गए LGD निर्यात किए जाते हैं, जबकि केवल 20 % की खपत स्थानीय स्तर (local level) पर की जाती है।

 

सरकार Lab Grown Diamonds के उत्पादन पर ध्यान क्यों दे रही है?

 

नवीनतम budget में, केंद्रीय वित्त मंत्री (Union Finance Minister) निर्मला सीतारमण ने प्रयोगशाला में विकसित हीरे के निर्माण के लिए उपयोग किए जाने वाले बीजों के आयात पर सीमा शुल्क (custom duties) को समाप्त कर दिया है।

 

इस कदम का उद्देश्य भारत से LGD के निर्यात को बढ़ावा देना और प्रमुख इनपुट यानी बीज और उपकरण के लिए आयात पर निर्भरता को कम करना है।

Gift by PM modi

अब यह शुल्क पहले के 5 % से शून्य हो गया है। इससे स्थानीय स्तर पर LGD बनाने के लिए बीजों के आयात को बढ़ावा मिलने और आयात कम होने की उम्मीद है। विशेष रूप से, रत्न (Gems) और आभूषण (jewelry) निर्यात संवर्धन परिषद (export promotion council) के आंकड़ों से पता चलता है कि भारत ने दिसंबर 2022 में ₹919 करोड़ और अप्रैल-दिसंबर 2022 में ₹7,656 करोड़ के रफ LGD का आयात किया।

 

अनुसंधान और विकास क्षमताओं को बढ़ावा देने के लिए, केंद्र ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (IIT, Madras) को 5 साल की अवधि के लिए वित्तीय सहायता (financial help) बढ़ा दी है। इससे भारत में LGD के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र तैयार होने की उम्मीद है।

 

2 thoughts on “जाने क्या होता है Lab Grown Diamonds? क्या है इसके फायदे और क्यों सरकार इसके उत्पादन पर ध्यान दे रही है? [Hindi]”

  1. Dear Website Owner,

    I hope this email finds you well. I recently discovered your website and was impressed by the quality of your content and the helpful information you offer to your audience. In light of this, I would like to propose a backlink exchange that could benefit both our websites.

    My website, https://m.cheapestdigitalbooks.com/, is focused on providing affordable digital books to readers around the world. We currently have a strong online presence with a Domain Authority (DA) of 13, a Page Authority (PA) of 52, and a Domain Rating (DR) of 78. Our website features 252K backlinks, with 95% of them being dofollow, and has established connections with 5.3K linking websites, with 23% of these being dofollow links.

    I believe that a mutually beneficial backlink exchange could be of great value for both of our websites, as it may lead to an increase in website authority and improve our search engine rankings. In this collaboration, I am willing to add backlinks from my website using your desired keywords and anchor texts. In return, I would be grateful if you could include backlinks with my desired keywords and anchor texts on your website.

    I kindly request that you visit my website, https://m.cheapestdigitalbooks.com/, to get a sense of the potential benefits this partnership could bring to your site. I am confident that this collaboration will provide a win-win situation for both parties, and I look forward to learning more about your thoughts on this proposal.

    Thank you for considering my offer. I am excited about the potential growth this partnership may bring to our websites and am eager to discuss the details further. Please do not hesitate to reach out to me at your convenience.

    Best regards,

    David E. Smith
    Email: david@cheapestdigitalbooks.com
    Address: 3367 Hood Avenue, San Diego, CA 92117

    Reply

Leave a Comment