World Athletics Championships: नीरज चोपड़ा Gold जीतने वाले पहले भारतीय बने | [Hindi]

 

भारतीय एथलेटिक्स के लिए एक ऐतिहासिक क्षण, नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने हंगरी के बुडापेस्ट (Budapest, Hungary) में आयोजित World Athletics Championship में पुरुषों की भाला फेंक स्पर्धा (javelin throw event) में स्वर्ण पदक जीता। ‘भारतीय एथलेटिक्स के सुनहरे लड़के’ ने इस प्रतिष्ठित चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक (gold medal) हासिल करने वाले पहले भारतीय एथलीट बनकर इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया।

 

नीरज (Neeraj Chopra) की उल्लेखनीय उपलब्धि (remarkable achievement) 28 august 2023 की सुबह सामने आई जब वह दुनिया भर के प्रतिस्पर्धियों (competitors) के साथ आमने-सामने थे। असाधारण कौशल (extraordinary skills) का प्रदर्शन करते हुए, उन्होंने अपने दूसरे प्रयास के दौरान 88.17 मीटर का शानदार थ्रो दर्ज किया, जिससे पूरे आयोजन में उनका दबदबा कायम हो गया।

इस उत्कृष्ट प्रदर्शन ने न केवल नीरज के लिए स्वर्ण पदक सुरक्षित किया बल्कि उन्हें वैश्विक मंच पर भारतीय खेलों के पथप्रदर्शक के रूप में स्थापित किया।

World Athletics Championships

एक अन्य प्रबल दावेदार, Pakistan के अरशद नदीम (Arshad Nadeem), रजत पदक (silver medal) के साथ नीरज की उपलब्धि से काफी पीछे रहे। नदीम, जो पहले राष्ट्रमंडल खेलों (Commonwealth Games) के मंच पर चमक चुके हैं, ने 87.82 मीटर का सराहनीय थ्रो किया।

 

पोडियम पर तीसरा स्थान Czech Republic के जैकब वाडलेज्च (Jakub Vadlejch) ने हासिल किया, जिन्होंने 86.67 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ अपनी ताकत का प्रदर्शन किया।

World Athletics Championships

अपने बेटे की उपलब्धि पर गर्व महसूस कर रहे नीरज के पिता सतीश कुमार ने एएनआई को बताया, “यह हमारे देश के लिए बहुत गर्व का क्षण है क्योंकि हमें World Athletics Championship में भी स्वर्ण पदक मिला है। नीरज के World Athletics Championship से भारत वापस आने पर हम जश्न मनाएंगे।”

 

World Athletics Championship में स्वर्ण पदक के लिए नीरज चोपड़ा को बधाई

 

जैसे ही नीरज की ऐतिहासिक जीत की खबर फैली, हर तरफ से बधाई संदेश आने लगे। जश्न मनाने वालों में भारत के Youth Affairs and Sports मंत्री अनुराग ठाकुर भी शामिल थे, जिन्होंने नीरज की उपलब्धि को भारतीय खेल इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण बताया। उन्होंने World Athletics Championship में नीरज की उपलब्धि पर गर्व और सराहना व्यक्त करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया।

भारतीय सेना भी नीरज की उपलब्धि की सराहना करते हुए शुभचिंतकों की मंडली में शामिल हो गई। उनकी उपलब्धि को एक स्मारकीय उपलब्धि के रूप में मान्यता देते हुए, भारतीय सेना ने विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर अपनी बधाई साझा की।

 

नीरज का स्वर्ण पदक न केवल उनके व्यक्तिगत रिकॉर्ड (personal record) में एक शानदार उपलब्धि जोड़ता है बल्कि World Athletics Championship में भारत की पदक तालिका को भी समृद्ध करता है। यह जीत चैंपियनशिप में उनका दूसरा पदक है, इससे पहले उन्होंने रजत पदक (silver medal) हासिल किया था।

 

World Athletics Championship से पहले नीरज चोपड़ा का सफर

 

नीरज चोपड़ा, जिन्हें 24 दिसंबर 1997 को हरयाणा, भारत में पैदा हुआ था, ने भारतीय खेल इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है। वह जवान गेंदबाज अपनी ज़िन्दगी की पहली ओलंपिक में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले गेंदबाज बने।

नीरज का सफर 2016 में रियो ओलंपिक में अपने प्रथम ओलंपिक में भाग लेने से शुरू हुआ, लेकिन वह वहां पहले दौर में ही बाहर हो गए। इसके बाद, वह कठिनाइयों का सामना करने और मेहनत करने का फैसला किया।

2018 में, उन्होंने अशियाई खेलों में सोने का पदक जीता, जिसने उनकी उम्मीदों को बढ़ा दिया। फिर, 2021 के टोक्यो ओलंपिक में, उन्होंने गेंदबाजी का इतिहास रच दिया जब वह स्वर्ण पदक जीतकर भारत के लिए गर्व और गौरव लाए। इसके बाद, उन्होंने अपनी छवि को और भी बढ़ा दिया और दुनिया के बेहद प्रतिष्ठित खिलाड़ियों में से एक बन गए।

नीरज चोपड़ा ने अपनी कठिनाइयों का सामना करके, संघर्ष करके और अपनी मेहनत से एक बड़ा नाम बनाया है और भारत को गेंदबाजी में गर्वित किया है। उनका सफर एक प्रेरणास्त्रोत है और उन्हें देश और खेल के लिए सदैव याद किया जाएगा।

 

To know about, “MotoGP India 2023”, Click here

Leave a Comment